Seekers will always find a way to get to the truth and the only way to truth is through knowledge. But how is one supposed to get knowledge? The answer is simple: by being curious;and the best part about being curious is that it feels like being a kid again. Welcome to my blog, where I present to you my knowledge comprising interesting facts, narratives,descriptions and imagery in the most concise way possible. Stay curious folks!

DTC - Delhi Transport Corporation

Delhi Transport Corporation (DTC) को दिल्ली की लाइफलाइन भी कहा जाता है | DTC भारत में CNG Buses का सबसे बड़ा नेटवर्क है | जो की लगभग पूरी दिल्ली को कवर करता है | DTC दिल्ली सरकार के अन्दर काम करता है | इसमें करीब 19000 कर्मचारी काम करते है | इस लिहाज से DTC न सिर्फ लोगो को उनकी मंजिल तक पहुँचता है बल्कि काफी लोगो को रोजगार भी देता है | डीटीसी की स्थापना 1948 में हुई थी और तभी से यह दिल्ली के लोगो को उनकी मंजिल पे सुरक्षित पहुंचता आया है |


Delhi Transport Corporation (DTC) को दिल्ली की लाइफलाइन भी कहा जाता है | DTC भारत में CNG Buses का सबसे बड़ा नेटवर्क है | जो की लगभग पूरी दिल्ली को कवर करता है | DTC दिल्ली सरकार के अन्दर काम करता है | इसमें करीब 19000 कर्मचारी काम करते है | इस लिहाज से DTC न सिर्फ लोगो को उनकी मंजिल तक पहुँचता है बल्कि काफी लोगो को रोजगार भी देता है | डीटीसी की स्थापना 1948 में हुई थी और तभी से यह दिल्ली के लोगो को उनकी मंजिल पे सुरक्षित पहुंचता आया है |


डीटीसी में इस समय ज्यादातर टाटा मोटर्स की बस इस्तेमाल होती है | और कुछ बसे अशोक लेलैंड की भी इस्तेमाल होती है | टाटा मोटर्स की MARCO POLO बस डीटीसी में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होती है | इसमें AC और NON AC दोनों बस इस्तेमाल होती है |


डीटीसी की बस न केवल दिल्ली में बल्कि दिल्ली की अस पास के शहरो में भी चलती है जैसे की Gurugram (Gurgaon), Noida, Bahadurgarh, Faridabad. इस लिहाज़ से जो लोग अस पास के शहरो से दिल्ली काम करने आते है उनके लिए भी डीटीसी एक अच्छा माध्यम है | दिल्ली से आस पास के शहरो में जाने की लिए अंतर राज्य बसे तीन बस टर्मिनल्स से मिलती है – आनंद विहार बस  टर्मिनल, कश्मीरी गेट बस टर्मिनल, सराय काले खां बस टर्मिनल | और तीन जगह से ही सबसे ज्यादा बस उपलब्ध होती है | 


अब इतने बड़े शहर में कुछ ऐसी बसे भी चहिये होती है जो की पूरी शहर को जोड़े इस काम को पूरा करती है TMS और OMS.


 TMS (तीव्र मुद्रिका सेवा) यह दिल्ली की लगभग 54 km लम्बी रिंग रोड पे चलती है | और इसके जरिये दिल्ली में किसी भी दिशा में जाया जाता है | यह ज्यादातर दो ही जगह से चलती है लाजपत नगर और पंजाबी बाग | इन बसों की service बहुत अच्छी होती है और अगर कहीं जाम न लगा हो तो यह हर 5 मिनट में आपको रिंग रोड के किसी भी stand से मिल जियेगी |


 OMS (आउटर मुद्रिका सेवा) यह दिल्ली की आउटर रिंग रोड पर चलती है क्योंकि आउटर रिंग रोड काफी लम्बी है इस वजह से इसकी service थोड़ी कमजोर हो जाती है | फिर भी अगर कही जाम न लगा हो तो यह हर 15 मिनट में आपको आउटर रिंग रोड के किसी भी stand से मिल जाएगी |


डीटीसी ने अपने नेटवर्क को और स्ट्रोंग करने के लिए मेट्रो फीडर बसे भी चालू की जो की दो या तीन मेट्रो lines को आपस में जोडती है | और इनका रूट उन जगहों से होता हुआ जाता है जहाँ पर डीटीसी की नार्मल बसे काम जाती है | इससे लोगो को अपने पास के metro स्टेशन पर जाने में बहुत आसानी होती है |


दिल्ली के डीटीसी में AC बसों का आगमन 4 जून 2008 को विश्व पर्यावरण दिवस पर मुख्यमंत्री शिला दिक्सित द्वारा इंडिया गेट से किया गया | अब जितने भी बसे डीटीसी के अंतर्गत चलती है उन सभी में GPS system लगा होता हैं | जिसे कभी भी बसों का पता लगाया जा सकता है |  और अब सभी बसों में ETM (इलेक्ट्रॉनिक टिकटिंग मशीन) की सुविधा कर दी गयी है जिससे के यात्रियों को पता रहे की उनकी टिकेट कहाँ तक जाने के लिए मान्य है | 


जो लोग डीटीसी में रोजाना यात्रा करते है उनकी सुविधा के लिए डीटीसी ने बस पास के सुविधा कर रखी है जिसके अंतर्गत आप एक बार में अधिकतम 5 महीने का बस पास बनवा सकते है | जिसकी किमत रोजाना की किराये से बहुत ही कम लगती है | और एक बार पास बन गया तो बार बार टिकेट लेना का कोई चक्कर ही नहीं | Students के लिए सरकार ने पास की किमत काफी कम राखी है | जिसमें कोई भी स्टूडेंट 100 रुपए प्रति माह के हिसाब से अधिकतम 5 महीने का पास बनवा सकते है जो की AC बसों को छोड़ के सभी बसों में मान्य होगा |


 नार्मल बसों का किराया 5/-, 10/-, 15/- और AC बसों का किराया 10/-, 15/-, 20/-, 25/- रुपए है और अगर आप बिना पास और बिना टिकेट के यात्रा करते है तो आपको पकडे जाने पर 200/- रुपए का जुरमाना भरना पड़ेगा |


अगर आपको बस एक दिन के लिए ही डीटीसी में ट्रेवल करना है तो आप डीटीसी का दानिक पास भी बनवा सकते है जो की 40/- और 50/- रुपए का बनता है जो की हरी और लाल रंग की बसों में ही मान्य होगा | वो पास नारगी रंग की बसों में मान्य नहीं होगा |



डीटीसी अपने टूरिस्ट का भी पूरा ध्यान रखती है | जिसके लिए डीटीसी ने sight seeing bus चला राखी है जो की आपको दिल्ली में इस्थित tourists places पे घुमती है | डीटीसी की कोई भी बस आपको सुबह 6 बजे से रात के 10 बजे तक आराम से मिल जाएगी |  
  
Labels:

Post a Comment

[blogger][facebook]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget